हिंदी साहित्य स्पेशल

1. अमीर ख़ुसरो
पूरा नाम अबुल हसन यामीन-उद्दीन ख़ुसरो
अन्य नाम अमीर सैफ़ुद्दीन ख़ुसरो
जन्म 1253 ई.
जन्म भूमि एटा, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1325 ई.
अभिभावक सैफ़ुद्दीन और दौलत नाज़
कर्म भूमि दिल्ली
कर्म-क्षेत्र संगीतज्ञ, कवि
मुख्य रचनाएँ मसनवी किरानुससादैन, मल्लोल अनवर, शिरीन ख़ुसरो, मजनू लैला, आईने-ए-सिकन्दरी, हश्त विहिश
विषय गज़ल, ख़याल, कव्वाली, रुबाई
भाषा ब्रज भाषा, हिन्दी, फ़ारसी
विशेष योगदान मृदंग को काट कर तबला बनाया, सितार में सुधार किए
अन्य जानकारी हज़रत निज़ाम-उद्-दीन औलिया के शिष्य रहे।

अमीर ख़ुसरो की रचनाएँ
ऐ री सखी मोरे पिया घर आए -अमीर ख़ुसरो
परदेसी बालम धन अकेली मेरा बिदेसी घर आवना -अमीर ख़ुसरो
मेरे महबूब के घर रंग है री -अमीर ख़ुसरो
छाप तिलक सब छीन्हीं रे -अमीर ख़ुसरो
बहुत कठिन है डगर पनघट की -अमीर ख़ुसरो
आ घिर आई दई मारी घटा कारी। -अमीर ख़ुसरो
ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल -अमीर ख़ुसरो
दैया री मोहे भिजोया री शाह निजम के रंग में। -अमीर ख़ुसरो
सकल बन फूल रही सरसों -अमीर ख़ुसरो
तोरी सूरत के बलिहारी, निजाम -अमीर ख़ुसरो
अम्मा मेरे बाबा को भेजो री -अमीर ख़ुसरो
बहोत रही बाबुल घर दुल्हन -अमीर ख़ुसरो
दुसुख़ने -अमीर ख़ुसरो
जब यार देखा नैन भर -अमीर ख़ुसरो
मोरा जोबना नवेलरा भयो है गुलाल -अमीर ख़ुसरो
ढकोसले या अनमेलियाँ -अमीर ख़ुसरो
जो पिया आवन कह गए अजहुँ न आए -अमीर ख़ुसरो
बहुत दिन बीते पिया को देखे -अमीर ख़ुसरो
काहे को ब्याहे बिदेस -अमीर ख़ुसरो
हजरत ख्वाजा संग खेलिए धमाल -अमीर ख़ुसरो
जो मैं जानती बिसरत हैं सैय्या -अमीर ख़ुसरो
सूफ़ी दोहे -अमीर ख़ुसरो
दोहे -अमीर ख़ुसरो

अमीर ख़ुसरो जन्म- 1253 ई., एटा, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 1325 ई.) हिन्दी खड़ी बोली के पहले लोकप्रिय कवि थे, जिन्होंने कई ग़ज़ल, ख़याल, कव्वाली, रुबाई और तराना आदि की रचनाएँ की थीं।

जीवन परिचय
अमीर ख़ुसरो का जन्म सन 1253 ई. में एटा (उत्तरप्रदेश) के पटियाली नामक क़स्बे में गंगा किनारे हुआ था। वे मध्य एशिया की लाचन जाति के तुर्क सैफ़ुद्दीन के पुत्र थे। लाचन जाति के तुर्क चंगेज़ ख़ाँ के आक्रमणों से पीड़ित होकर बलबन (1266-1286 ई.) के राज्यकाल में शरणार्थी के रूप में भारत आकर बसे थे।

प्रारंभिक जीवन
अमीर ख़ुसरो की माँ दौलत नाज़ हिन्दू (राजपूत) थीं। ये दिल्ली के एक रईस अमी इमादुल्मुल्क की पुत्री थीं। अमी इमादुल्मुल्क बादशाह बलबन के युद्ध मन्त्री थे। ये राजनीतिक दवाब के कारण नए-नए मुसलमान बने थे। इस्लाम धर्म ग्रहण करने के बावजूद इनके घर में सारे रीति-रिवाज हिन्दुओं के थे। ख़ुसरो के ननिहाल में गाने-बजाने और संगीत का माहौल था। ख़ुसरो के नाना को पान खाने का बेहद शौक़ था। इस पर बाद में ख़ुसरो ने ‘तम्बोला’ नामक एक मसनवी भी लिखी। इस मिले-जुले घराने एवं दो परम्पराओं के मेल का असर किशोर ख़ुसरो पर पड़ा। वे जीवन में कुछ अलग हट कर करना चाहते थे और वाक़ई ऐसा हुआ भी। ख़ुसरो के श्याम वर्ण रईस नाना इमादुल्मुल्क और पिता अमीर सैफ़ुद्दीन दोनों ही चिश्तिया सूफ़ी सम्प्रदाय के महान् सूफ़ी साधक एवं संत हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया उर्फ़ सुल्तानुल मशायख के भक्त अथवा मुरीद थे। उनके समस्त परिवार ने औलिया साहब से धर्मदीक्षा ली थी। उस समय ख़ुसरो केवल सात वर्ष के थे। सात वर्ष की अवस्था में ख़ुसरो के पिता का देहान्त हो गया, किन्तु ख़ुसरो की शिक्षा-दीक्षा में बाधा नहीं आयी। अपने समय के दर्शन तथा विज्ञान में उन्होंने विद्वत्ता प्राप्त की, किन्तु उनकी प्रतिभा बाल्यावस्था में ही काव्योन्मुख थी। किशोरावस्था में उन्होंने कविता लिखना प्रारम्भ किया और 20 वर्ष के होते-होते वे कवि के रूप में प्रसिद्ध हो गये।

व्यावहारिक बुद्धि
जन्मजात कवि होते हुए भी ख़ुसरो में व्यावहारिक बुद्धि की कमी नहीं थी। सामाजिक जीवन की उन्होंने कभी अवहेलना नहीं की। जहाँ एक ओर उनमें एक कलाकार की उच्च कल्पनाशीलता थी, वहीं दूसरी ओर वे अपने समय के सामाजिक जीवन के उपयुक्त कूटनीतिक व्यवहार-कुशलता में भी दक्ष थे। उस समय बृद्धिजीवी कलाकारों के लिए आजीविका का सबसे उत्तम साधन राज्याश्रय ही था। ख़ुसरो ने भी अपना सम्पूर्ण जीवन राज्याश्रय में बिताया। उन्होंने ग़ुलाम, ख़िलजी और तुग़लक़-तीन अफ़ग़ान राज-वंशों तथा 11 सुल्तानों का उत्थान-पतन अपनी आँखों से देखा। आश्चर्य यह है कि निरन्तर राजदरबार में रहने पर भी ख़ुसरो ने कभी भी उन राजनीतिक षड्यन्त्रों में किंचिन्मात्र भाग नहीं लिया जो प्रत्येक उत्तराधिकार के समय अनिवार्य रूप से होते थे। राजनीतिक दाँव-पेंच से अपने को सदैव अनासक्त रखते हुए ख़ुसरो निरन्तर एक कवि, कलाकार, संगीतज्ञ और सैनिक ही बने रहे। ख़ुसरो की व्यावहारिक बुद्धि का सबसे बड़ा प्रमाण यही है कि वे जिस आश्रयदाता के कृपापात्र और सम्मानभाजक रहे, उसके हत्यारे उत्तराधिकारी ने भी उन्हें उसी प्रकार आदर और सम्मान प्रदान किया।

तबले का आविष्कार
कहा जाता है कि तबला हज़ारों साल पुराना वाद्ययंत्र है किन्तु नवीनतम ऐतिहासिक वर्णन में बताया जाता है कि 13वीं शताब्दी में भारतीय कवि तथा संगीतज्ञ अमीर ख़ुसरो ने पखावज के दो टुकड़े करके तबले का आविष्कार किया।

राज्याश्रय
सबसे पहले सन् 1270 ई. में ख़ुसरो को सम्राट् ग़यासुद्दीन बलबन के भतीजे, कड़ा (इलाहाबाद) के हाकिम अलाउद्दीन मुहम्मद कुलिश ख़ाँ (मलिक छज्जू) का राज्याश्रय प्राप्त हुआ। एक बार बलवन के द्वितीय पुत्र बुगरा ख़ाँ की प्रशंसा में क़सीदा लिखने के कारण मलिक छज्जू उनसे अप्रसन्न हो गया और ख़ुसरो को बुगरा ख़ाँ का आश्रय ग्रहण करना पड़ा। जब बुगरा ख़ाँ लखनौती का हाकिम नियुक्त हुआ तो ख़ुसरो भी उसके साथ चले गये। किन्तु वे पूर्वी प्रदेश के वातावरण में अधिक दिन नहीं रह सके और बलवन के ज्येष्ठ पुत्र सुल्तान मुहम्मद का निमन्त्रण पाकर दिल्ली लौट आये। ख़ुसरो का यही आश्रयदाता सर्वाधिक सुसंस्कृत और कला-प्रेमी था। सुल्तान मुहम्मद के साथ उन्हें मुल्तान भी जाना पड़ा और मुग़लों के साथ उसके युद्ध में भी सम्मिलित होना पड़ा।

बन्दी ख़ुसरो
इस युद्ध में सुल्तान मुहम्मद की मृत्यु हो गयी और ख़ुसरो बन्दी बना लिये गये। ख़ुसरो ने बड़े साहस और कुशलता के साथ बन्दी-जीवन से मुक्ति प्राप्त की। परन्तु इस घटना के परिणामस्वरूप ख़ुसरो ने जो मरसिया लिखा वह अत्यन्त हृदयद्रावक और प्रभावशाली है। कुछ कुछ दिनों तक वे अपनी माँ के पास पटियाली तथा अवध के एक हाकिम अमीर अली के यहाँ रहे। परन्तु शीघ्र ही वे दिल्ली लौट आये।

2. मलूकदास
पूरा नाम मलूकदास खत्री
जन्म 1574 सन् (1631 संवत)
जन्म भूमि कड़ा, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1682 सन् (1739 संवत)
अभिभावक लाला सुंदरदास खत्री
कर्म-क्षेत्र कवि, लेखक
मुख्य रचनाएँ रत्नखान, ज्ञानबोध, भक्ति विवेक आदि अनेक ग्रंथ
भाषा फारसी, अवधी, अरबी, खड़ी बोली आदि
अन्य जानकारी वृंदावन में वंशीवट क्षेत्र स्थित मलूक पीठ में संत मलूकदास की जाग्रत समाधि है।
अद्यतन‎
13:35, 3 नवम्बर 2011 (IST)

मलूकदास की रचनाएँ
दरद-दिवाने बावरे -मलूकदास
तेरा, मैं दीदार-दीवाना -मलूकदास
राम कहो राम कहो -मलूकदास
हरि समान दाता कोउ नाहीं -मलूकदास
अब तेरी सरन आयो राम -मलूकदास
दीनदयाल सुनी जबतें -मलूकदास
गरब न कीजै बावरे -मलूकदास
ना वह रीझै जप तप कीन्हे -मलूकदास
हमसे जनि लागै तू माया -मलूकदास
दया धरम हिरदे बसै, बोलै अमरित बैन -मलूकदास
सदा सोहागिन नारि सो -मलूकदास
नाम हमारा खाक है -मलूकदास
कौन मिलावै जोगिया हो -मलूकदास

मलूकदास का जन्म ‘लाला सुंदरदास खत्री’ के घर वैशाख कृष्ण 5, संवत् 1631 में कड़ा, जिला इलाहाबाद में हुआ। इनकी मृत्यु 108 वर्ष की अवस्था में संवत् 1739 में हुई। ये औरंगजेब के समय में दिल के अंदर खोजने वाले ‘निर्गुण मत’ के नामी संतों में हुए हैं और इनकी गद्दियाँ कड़ा, जयपुर, गुजरात, मुलतान, पटना, नेपाल और काबुल तक में क़ायम हुईं। इनके संबंध में बहुत से चमत्कार या करामातें प्रसिद्ध हैं। कहते हैं कि एक बार इन्होंने एक डूबते हुए शाही जहाज़ को पानी के ऊपर उठाकर बचा लिया था और रुपयों का तोड़ा गंगा जी में तैरा कर कड़े से इलाहाबाद भेजा था। आलसियों का यह मूल मंत्र –

अजगर करै न चाकरी, पंछी करै न काम।
दास मलूका कहि गए, सबके दाता राम। इन्हीं का है।

रचनाएँ
इनकी दो पुस्तकें प्रसिद्ध हैं ‘रत्नखान’ और ‘ज्ञानबोध’।

भाषा
हिंदुओं और मुसलमानों दोनों को उपदेश देने में प्रवृत्त होने के कारण दूसरे निर्गुणमार्गी संतों के समान इनकी भाषा में भी फारसी और अरबी शब्दों का बहुत प्रयोग है। इसी दृष्टि से बोलचाल की ‘खड़ी बोली’ का पुट इन सब संतों की बानी में एक सा पाया जाता है। इन सब लक्षणों के होते हुए भी इनकी भाषा सुव्यवस्थित और सुंदर है। कहीं-कहीं अच्छे कवियों का सा पदविन्यास और कवित्त आदि छंद भी पाए जाते हैं। कुछ पद्य बिल्कुल खड़ी बोली में हैं। आत्मबोध, वैराग्य, प्रेम आदि पर इनकी बानी बड़ी मनोहर है। दिग्दर्शन मात्र के लिए कुछ पद्य नीचे दिए जाते हैं

अब तो अजपा जपु मन मेरे।
सुर नर असुर टहलुआ जाके मुनि गंधर्व हैं जाके चेरे।
दस औतारि देखि मत भूलौ ऐसे रूप घनेरे
अलख पुरुष के हाथ बिकाने जब तैं नैननि हेरे।
कह मलूक तू चेत अचेता काल न आवै नेरे
नाम हमारा खाक है, हम खाकी बंदे।
खाकहि से पैदा किए अति गाफिल गंदे
कबहुँ न करते बंदगी, दुनिया में भूले।
आसमान को ताकते, घोड़े चढ़ फूले
सबहिन के हम सबै हमारे । जीव जंतु मोहि लगैं पियारे
तीनों लोक हमारी माया । अंत कतहुँ से कोइ नहिं पाया
छत्तिस पवन हमारी जाति । हमहीं दिन औ हमहीं राति
हमहीं तरवरकीट पतंगा । हमहीं दुर्गा हमहीं गंगा
हमहीं मुल्ला हमहीं क़ाज़ी। तीरथ बरत हमारी बाजी
हमहीं दसरथ हमहीं राम । हमरै क्रोध औ हमरै काम
हमहीं रावन हमहीं कंस । हमहीं मारा अपना बंस
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

3. माखन लाल चतुर्वेदी
पूरा नाम माखन लाल चतुर्वेदी
जन्म 4 अप्रैल, 1889 ई.
जन्म भूमि बावई, मध्य प्रदेश
मृत्यु 30 जनवरी, 1968 ई.
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र कवि, लेखक, पत्रकार, अध्यापक
मुख्य रचनाएँ ‘कृष्णार्जुन युद्ध’, ‘हिमकिरीटिनी’, ‘साहित्य देवता’, ‘हिमतरंगिनी’, ‘माता’, ‘युगचरण’, ‘समर्पण’, ‘वेणु लो गूँजे धरा’, ‘अमीर इरादे’, ‘गरीब इरादे’ आदि।
विषय कविता, नाटक, ग्रंथ, कहानी
भाषा हिन्दी, संस्कृत
पुरस्कार-उपाधि 1949 ई.- साहित्य अकादमी पुरस्कार
प्रसिद्धि स्वतंत्रता सेनानी
नागरिकता भारतीय

माखन लाल चतुर्वेदी की रचनाएँ
आज नयन के बँगले में -माखन लाल चतुर्वेदी
उपालम्भ -माखन लाल चतुर्वेदी
अंजलि के फूल गिरे जाते हैं -माखन लाल चतुर्वेदी
एक तुम हो -माखन लाल चतुर्वेदी
तान की मरोर -माखन लाल चतुर्वेदी
बलि-पन्थी से -माखन लाल चतुर्वेदी
फुंकरण कर, रे समय के साँप -माखन लाल चतुर्वेदी
कैसी है पहिचान तुम्हारी -माखन लाल चतुर्वेदी
बसंत मनमाना -माखन लाल चतुर्वेदी
चलो छिया-छी हो अन्तर में -माखन लाल चतुर्वेदी
बदरिया थम-थमकर झर री ! -माखन लाल चतुर्वेदी
कुंज कुटीरे यमुना तीरे -माखन लाल चतुर्वेदी
प्यारे भारत देश -माखन लाल चतुर्वेदी
झूला झूलै री -माखन लाल चतुर्वेदी
भाई, छेड़ो नही, मुझे -माखन लाल चतुर्वेदी
इस तरह ढक्कन लगाया रात ने -माखन लाल चतुर्वेदी
मधुर! बादल, और बादल, और बादल -माखन लाल चतुर्वेदी
दूबों के दरबार में -माखन लाल चतुर्वेदी
मचल मत, दूर-दूर, ओ मानी -माखन लाल चतुर्वेदी
क्या आकाश उतर आया है -माखन लाल चतुर्वेदी
पुष्प की अभिलाषा -माखन लाल चतुर्वेदी
जागना अपराध -माखन लाल चतुर्वेदी
मैं अपने से डरती हूँ सखि -माखन लाल चतुर्वेदी
उस प्रभात, तू बात न माने -माखन लाल चतुर्वेदी
मधुर-मधुर कुछ गा दो मालिक -माखन लाल चतुर्वेदी
घर मेरा है? -माखन लाल चतुर्वेदी
नयी-नयी कोपलें -माखन लाल चतुर्वेदी
वर्षा ने आज विदाई ली -माखन लाल चतुर्वेदी
गाली में गरिमा घोल-घोल -माखन लाल चतुर्वेदी
गंगा की विदाई -माखन लाल चतुर्वेदी
सिपाही -माखन लाल चतुर्वेदी
ये वृक्षों में उगे परिन्दे -माखन लाल चतुर्वेदी
ऊषा के सँग, पहिन अरुणिमा -माखन लाल चतुर्वेदी
अमर राष्ट्र -माखन लाल चतुर्वेदी
वेणु लो, गूँजे धरा -माखन लाल चतुर्वेदी
यह अमर निशानी किसकी है? -माखन लाल चतुर्वेदी
कैदी और कोकिला -माखन लाल चतुर्वेदी
तुम मिले -माखन लाल चतुर्वेदी
उठ महान -माखन लाल चतुर्वेदी
ये प्रकाश ने फैलाये हैं -माखन लाल चतुर्वेदी
जवानी -माखन लाल चतुर्वेदी
लड्डू ले लो -माखन लाल चतुर्वेदी
जीवन, यह मौलिक महमानी -माखन लाल चतुर्वेदी
समय के समर्थ अश्व -माखन लाल चतुर्वेदी
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं -माखन लाल चतुर्वेदी
वायु -माखन लाल चतुर्वेदी
जाड़े की साँझ -माखन लाल चतुर्वेदी
वरदान या अभिशाप? -माखन लाल चतुर्वेदी
दीप से दीप जले -माखन लाल चतुर्वेदी
गिरि पर चढ़ते, धीरे-धीर -माखन लाल चतुर्वेदी
तुम्हारा चित्र -माखन लाल चतुर्वेदी
यौवन का पागलपन -माखन लाल चतुर्वेदी
यह किसका मन डोला -माखन लाल चतुर्वेदी
साँस के प्रश्नचिन्हों, लिखी स्वर-कथा -माखन लाल चतुर्वेदी
मुझे रोने दो -माखन लाल चतुर्वेदी
तुम मन्द चलो -माखन लाल चतुर्वेदी

माखन लाल चतुर्वेदी  जन्म- 4 अप्रैल, 1889 बावई, मध्य प्रदेश; मृत्यु- 30 जनवरी, 1968) सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के अनूठे हिन्दी रचनाकार थे। इन्होंने हिन्दी एवं संस्कृत का अध्ययन किया। ये ‘कर्मवीर’ राष्ट्रीय दैनिक के संपादक थे। इन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। इनका उपनाम एक भारतीय आत्मा है। राष्ट्रीयता माखन लाल चतुर्वेदी के काव्य का कलेवर है तथा रहस्यात्मक प्रेम उसकी आत्मा है।

चाह नहीं मैं सुरबाला के, गहनों में गूँथा जाऊँ
चाह नहीं, प्रेमी-माला में, बिंध प्यारी को ललचाऊँ
चाह नहीं, सम्राटों के शव, पर हे हरि, डाला जाऊँ
चाह नहीं, देवों के सिर पर, चढ़ू भाग्य पर इठलाऊँ
मुझे तोड़ लेना वनमाली, उस पथ पर देना तुम फेंक
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने, जिस पथ जावें वीर अनेक

जीवन परिचय
हिन्दी जगत् के कवि, लेखक, पत्रकार माखन लाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल, 1889 ई. में बावई, मध्य प्रदेश में हुआ था। यह बचपन में काफ़ी रूग्ण और बीमार रहा करते थे। चतुर्वेदी जी के जीवनीकार बसआ का कहना है
‘दैन्य और दारिद्रय की जो भी काली परछाई चतुर्वेदियों के परिवार पर जिस रूप में भी रही हो, माखनलाल पौरुषवान सौभाग्य का लाक्षणिक शकुन ही बनता गया।’
इनका परिवार राधावल्लभ सम्प्रदाय का अनुयायी था, इसलिए स्वभावत: चतुर्वेदी के व्यक्तित्व में वैष्णव पद कण्ठस्थ हो गये। प्राथमिक शिक्षा की समाप्ति के बाद ये घर पर ही संस्कृत का अध्ययन करने लगे। इनका विवाह पन्द्रह वर्ष की अवस्था में हुआ और उसके एक वर्ष बाद आठ रुपये मासिक वेतन पर इन्होंने अध्यापकी शुरू की।
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

4. रामधारी सिंह ‘दिनकर’
पूरा नाम रामधारी सिंह दिनकर
अन्य नाम दिनकर
जन्म 23 सितंबर, 1908
जन्म भूमि सिमरिया, मुंगेर, बिहार
मृत्यु 24 अप्रैल, 1974
मृत्यु स्थान चेन्नई, तमिलनाडु
अभिभावक श्री रवि सिंह और श्रीमती मनरूप देवी
संतान एक पुत्र
कर्म भूमि पटना
कर्म-क्षेत्र कवि, लेखक
मुख्य रचनाएँ रश्मिरथी, उर्वशी, कुरुक्षेत्र, संस्कृति के चार अध्याय, परशुराम की प्रतीक्षा, हुंकार, हाहाकार, चक्रव्यूह, आत्मजयी, वाजश्रवा के बहाने आदि।
विषय कविता, खंडकाव्य, निबंध, समीक्षा
भाषा हिन्दी
विद्यालय राष्ट्रीय मिडिल स्कूल, मोकामाघाट हाई स्कूल, पटना विश्वविद्यालय
पुरस्कार-उपाधि ‘भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार’, ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’, ‘पद्म भूषण’
प्रसिद्धि राष्ट्रकवि
नागरिकता भारतीय
हस्ताक्षर
अन्य जानकारी वर्ष 1934 में बिहार सरकार के अधीन इन्होंने ‘सब-रजिस्ट्रार’ का पद स्वीकार कर लिया और लगभग नौ वर्षों तक वह इस पद पर रहे।

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की रचनाएँ
आग की भीख -रामधारी सिंह दिनकर
आशा का दीपक -रामधारी सिंह दिनकर
गाँधी -रामधारी सिंह दिनकर
कलम, आज उनकी जय बोल -रामधारी सिंह दिनकर
करघा -रामधारी सिंह दिनकर
गीत-अगीत -रामधारी सिंह दिनकर
कुंजी -रामधारी सिंह दिनकर
चांद एक दिन -रामधारी सिंह दिनकर
एक पत्र -रामधारी सिंह दिनकर
एक विलुप्त कविता -रामधारी सिंह दिनकर
ध्वज-वंदना -रामधारी सिंह दिनकर
निराशावादी -रामधारी सिंह दिनकर
चांद का कुर्ता -रामधारी सिंह दिनकर
रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद -रामधारी सिंह दिनकर
जब आग लगे… -रामधारी सिंह दिनकर
जियो जियो अय हिन्दुस्तान -रामधारी सिंह दिनकर
दिल्ली (कविता) -रामधारी सिंह दिनकर
नमन करूँ मैं -रामधारी सिंह दिनकर
जनतन्त्र का जन्म -रामधारी सिंह दिनकर
पढ़क्‍कू की सूझ -रामधारी सिंह दिनकर
परिचय -रामधारी सिंह दिनकर
परदेशी -रामधारी सिंह दिनकर
पर्वतारोही -रामधारी सिंह दिनकर
बालिका से वधू -रामधारी सिंह दिनकर
परंपरा -रामधारी सिंह दिनकर
भारत -रामधारी सिंह दिनकर
भगवान के डाकिए -रामधारी सिंह दिनकर
रोटी और स्वाधीनता -रामधारी सिंह दिनकर
लेन-देन -रामधारी सिंह दिनकर
लोहे के मर्द -रामधारी सिंह दिनकर
विजयी के सदृश जियो रे -रामधारी सिंह दिनकर
मेरे नगपति! मेरे विशाल! -रामधारी सिंह दिनकर
लोहे के पेड़ हरे होंगे -रामधारी सिंह दिनकर
राजा वसन्त वर्षा ऋतुओं की रानी -रामधारी सिंह दिनकर
वीर -रामधारी सिंह दिनकर
शोक की संतान -रामधारी सिंह दिनकर
समुद्र का पानी -रामधारी सिंह दिनकर
शक्ति और क्षमा -रामधारी सिंह दिनकर
वातायन -रामधारी सिंह दिनकर
सिपाही -रामधारी सिंह दिनकर
हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों -रामधारी सिंह दिनकर
समर शेष है -रामधारी सिंह दिनकर

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जन्म: 23 सितंबर, 1908, बिहार; मृत्यु: 24 अप्रैल, 1974, तमिलनाडु) हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक, कवि एवं निबंधकार थे। ‘राष्ट्रकवि दिनकर’ आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। उनको राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत, क्रांतिपूर्ण संघर्ष की प्रेरणा देने वाली ओजस्वी कविताओं के कारण असीम लोकप्रियता मिली। दिनकर जी ने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। साहित्य के रूप में उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेज़ी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था।

जीवन परिचय
हिन्दी के सुविख्यात कवि रामधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 ई. में सिमरिया, मुंगेर (बिहार) में एक सामान्य किसान ‘रवि सिंह’ तथा उनकी पत्नी ‘मनरूप देवी’ के पुत्र के रूप में हुआ था। रामधारी सिंह दिनकर एक ओजस्वी राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत कवि के रूप में जाने जाते थे। उनकी कविताओं में छायावादी युग का प्रभाव होने के कारण श्रृंगार के भी प्रमाण मिलते हैं। दिनकर के पिता एक साधारण किसान थे। दिनकर दो वर्ष के थे, जब उनके पिता का देहावसान हो गया। परिणामत: दिनकर और उनके भाई-बहनों का पालन-पोषण उनकी विधवा माता ने किया। दिनकर का बचपन और कैशोर्य देहात में बीता, जहाँ दूर तक फैले खेतों की हरियाली, बांसों के झुरमुट, आमों के बग़ीचे और कांस के विस्तार थे। प्रकृति की इस सुषमा का प्रभाव दिनकर के मन में बस गया, पर शायद इसीलिए वास्तविक जीवन की कठोरताओं का भी अधिक गहरा प्रभाव पड़ा।

Imp notes of biology


1) मनुष्य के शरीर के ताप होता है – 37° C

2) वनस्पति विज्ञान के जनक कौन हैं? – थियोफ्रेस्टस

3) भोजन का ऊर्जा में परिवर्तन कोशिका के किस भाग में होता है? – माइटोकॉन्ड्रिया

4) ‘कोशिका सिद्धान्त’ का प्रतिपादन किस वैज्ञानिक ने किया था? – श्लाइडेन और श्वान

5) यूरेसिल किसमें पाया जाता है? – आर.एन.ए. (RNA) में

6) इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप में प्रकाश का स्रोत क्या है? – इलेक्ट्रॉन किरण

7) पेप्टाइड बन्ध किसके बीच में उपस्थित होते हैं? – अमीनो अम्ल

8) प्रोटीन का संश्लेषण कहाँ पर होता है? – राइबोसोम

9) कौन-सा ऊतक द्वितीयक वृद्धि के लिए ज़िम्मेदार होता है? – कैम्बियम

10) भारत में ‘नार्मन वोरलॉग’ किसलिए प्रसिद्ध हैं? – हरित क्रान्ति के लिए

11) कौन-सा ऊतक पादपों में जल के परिवहन का कार्य करता है? – जाइलम

12) कपास के रेशे, पौधे के किस भाग में पाये जाते हैं? – बीजों पर अधिचर्मी रोम

13) ‘श्वसन मूल’ या न्‍यमेटोफोर किस पौधे में पायी जाती है? – जूशिया

14) चन्दन को सामान्यतः क्या माना जाता है? – आंशिक मूल परजीवी

15) गन्ना और गेहूँ में किसके द्वारा परागण होता है? – हवा द्वारा

16) वाष्पोत्सर्जन मापी यन्त्र कौन-सा है? – पोटोमीटर

17) सबसे बड़ी आँखें किस स्तनधारी प्राणी की होती है? – हिरण

18) कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) के उत्सर्जन में सर्वाधिक योगदान करने वाला देश है? – संयुक्त राज्य अमरीका

19) बॉटनी शब्द की उत्पत्ति किस भाषा के शब्द से हुई है? – ग्रीक

20) पौधों की आंतरिक संरचना का अध्ययन कहलाता है – शारीरिकी

21) जीवित प्राणियों के शरीर में होने वाली कौन सी एक प्रक्रिया, पाचक प्रक्रिया है? – प्रोटीनों का ऐमिनो अम्लों में विघटन

22) प्रोटीन के पाचन में सहायक एन्जाइम है? – ट्रिप्सिन

23) उन देशों में जहाँ के लोगों का मुख्य खाद्यान्न पॉलिश किया हुआ चावल है, लोग पीड़ित होते हैं? – बेरी-बेरी से

24) माँसपेशियाँ में से किसके एकत्र होने से थकान होती है? – लैक्टिक अम्ल

25) जीव विज्ञान शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम किसने किया? – लैमार्क तथा ट्रेविरेनस ने

26) वह विज्ञान जिसका सम्बन्ध जीवधारियों के अध्ययन से होता है कहलाता है – जीव विज्ञान

27) फाइकोलॉजी में किसका अध्ययन किया जाता है? – शैवाल

28) पर्यावरण का अध्ययन जीव-विज्ञान की किस शाखा के अंतर्गत किया जाता है? – पारिस्थितिकी

29) फूलों के संवर्द्धन के विज्ञान को क्या कहते हैं? – फ़्लोरीकल्चर

30) सजावटी वृक्ष तथा झाड़ियों के संवर्द्धन से सम्बन्धित अध्ययन कहलाता है – आरबोरीकल्चर

31) माइकोलॉजी में किसका अध्ययन किया जाता है? – कवक

32) एग्रोफ़ोरेस्ट्री क्या है? – कृषि के साथ-साथ उसी भूमि पर काष्ठीय बारहमासी वृक्ष लगाना

33) एक्सो-बायोलॉजी (Exo-biology) में निम्नलिखित में से किसका अध्ययन किया जाता है? – बाह्य ग्रहों तथा अंतरिक्ष में जीवन का

34) प्रकाश संश्लेषण के दौरान पैदा होने वाली ऑक्सीजन का स्रोत क्या है? – जल

35) पौधे का कौन-सा भाग श्वसन क्रिया करता है? – पत्ती

36) कच्चे फलों को कृत्रिम रूप से पकाने के लिए किस गैस का प्रयोग किया जाता है? – एसिटिलीन

37) वृक्षों की आयु किस प्रकार निर्धारित की जाती है? – वार्षिक वलयों की संख्या के आधार पर

38) नेत्रदान में दाता की आँख का कौन-सा भाग उपयोग में लाया जाता है? – रेटिना

39) साधारण मानव में गुणसूत्रों की संख्या कितनी होती है? – 46

40) मानव शरीर के किस अंग की हड्डी सबसे लम्बी होती है? – ऊरु (जांघ)

41) गाय और भैंस के थनों में दूध उतारने के लिए किस हार्मोन की सुई लगाई जाती है? – ऑक्सीटोसिन

42) परखनली शिशु के सम्बन्ध में कौन-सा कथन सत्य है? – शिशु का परिवर्धन परखनली के अन्दर होता है।

43) मानव शरीर में पसलियों के कितने जोड़े होते हैं? – 12

44) किस द्रव के एकत्रित होने पर माँसपेशियाँ थकान का अनुभव करने लगती हैं? – लैक्टिक एसिड

45) स्तनधारियों में लाल रुधिर कणिकाओं का निर्माण कहाँ होता है? – अस्थिमज्जा में

46) हल्दी के पौधे का खाने योग्य हिस्सा कौन-सा है? – प्रकन्द

47) निम्न में से कौन-सा एक कूट फल है? – सेब

48) कौन-सा रूपांतरिक तना है? – आलू

49) भोजपत्र उत्त्पन्न होता है? – बेटुला की छाल से

50) द्वीपों की संख्या सर्वाधिक कहाँ है? – प्रशान्त महासागर

51) जब सूर्य, चन्द्रमा एवं पृथ्वी लगभग एक ही सरल रेखा में स्थित होते हैं, तब उस स्थिति को क्या कहा जाता है? – दैनिक ज्वार

52) सर्वाधिक लवणता वाला सागर कौन सा है? – वॉन लेक

53) किस प्रकार की मृदा का निर्माण रेगिस्तानी या उप-रेगिस्तानी जलवायु दशाओं के अंतर्गत होता है? – एरिडोसॉल

54) जल में पनपने वाले पौधे क्या कहलाते हैं? – हाइड्रोफाइट्स

55) मालाबार क्षेत्र में किस प्रकार की वनस्पति मिलती है? – वर्षा वन

56) आलू किस कुल से सम्बन्धित है? – सोलेनेसी

Vocabulary

  1. RECIDIVISM (NOUN): (गिरावट) Lapse 
    Synonyms: backsliding, decline 
    Antonyms: ascent, increase 
    Example Sentence: 
    Recent trends show no recidivism towards the prices of Jackfruit. 
  2. BOLSTER (VERB): (सहायता देना) Help 
    Synonyms: aid, strengthen 
    Antonyms: block, halt 
    Example Sentence: 
    Ankit bolstered his friend in the market. 
  3. ADVENT (NOUN): (आगमन) Onset 
    Synonyms: arrival, coming 
    Antonyms: departure, leaving 
    Example Sentence: 
    The movie became interesting after the advent of Ashoka. 
  4. FELICITOUS (ADJECTIVE): (धन्य) Apropos 
    Synonyms: appropriate, propitious 
    Antonyms: unsuitable, infelicitous 
    Example Sentence: 
    Vaibhavi gave me a felicitous amount of bread. 
  5. COHERENCE (NOUN): (सम्बद्धता) Agreement 
    Synonyms: solidarity, congruity 
    Antonyms: discord, incoherence 
    Example Sentence: 
    Marriage is a beautiful coherence invisibly signed by both partners. 
  6. INSOLENCE (VERB): (ढिठाई) Arrogance 
    Synonyms: audacity, brazenness 
    Antonyms: modesty, politeness 
    Example Sentence: 
    I can’t stand your insolence anymore. 
  7. PERSECUTE (VERB): (सताना) ill treat 
    Synonyms: maltreat, oppress 
    Antonyms: please, delight 
    Example Sentence: 
    That doctor always persecutes the poor patients. 
  8. EXPOUND (VERB): (व्याख्या करना) Expatiate 
    Synonyms: explain, interpret 
    Antonyms: abbreviate, abridge 
    Example Sentence: 
    Kindly expound this question once again. 
  9. RECRIMINATIONS (NOUN): (परस्पर दोषारोपण) Allegation 
    Synonyms: denunciation, censure 
    Antonyms: approval, commendation 
    Example Sentence: 
    It is her tough phase, full of recriminations. 
  10. LIBELOUS (ADJECTIVE): (अपमानजनक) Aspersive 
    Synonyms: backbiting, calumniatory 
    Antonyms: complimentary, praising 
    Example Sentence: 
    I refrain from making libelous remarks over anyone. 

🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁

Daily CA One Liners , 08 November 2019 .

🔶 Melanie Jones Appointed As Director Of Cricket Australia

🔶 India Ranks 128th In Mobile Internet Speed : Ookla

🔶 Godrej Ropes In Anushka Sharma As Brand Ambassador

🔶 Rajendra Menon Appointed Armed Forces Tribunal Chairman

🔶 Mokgweetsi Masisi Sworn In As Botswana President 

🔶 Chris Kempczinski Elected As New CEO Of McDonald’s

🔶 China Launches Gaofen-7 New Earth Observation Satellite

🔶 Saina Nehwal Out From China Open Badminton Tournament

🔶 Adidas Reveals Official Match Ball For UEFA EURO 2020

🔶 4th Asian Championships Begins At Doha , Qatar

🔶 Deepak Kumar Won Bronze At 4th Asian Championships

🔶 Manu Bhakar Won Gold Medal In 10M Air Rifle At 4th Asian Championships

🔶 Nathan Lyon Signs For Hampshire For 2020 Season

🔶 No Opening Ceremony For Indian Premier League 2020 : BCCI

🔶 India To Test-Fire 3,500 Km Range K-4 Nuclear Missile

🔶 ADB To Provide USD 451 Million For The Chennai Kanyakumari Industrial Corridor

🔶 Australia’s Women And Men Footballers To Get Equal Pay

🔶 Arvind Singh Takes Over As Chairman Of Airport Authority Of India

🔶 Sudan’s 1st Ever Satellite ‘ SRSS-1 ’ Launched By China

🔶 12.01% Less Stubble Burning Cases Than 2018 : ICAR Report

🔶 RBI Imposed A Penalty Of 5 Cr On Mehsana Urban Co-operative Bank

🔶 1st BIMSTEC Ports Conclave Begins At Visakhapatnam

🔶 India-US Defence Exercise ‘ Tiger Triumph ’ To Be Held In Visakhapatnam

🔶 GRSE Delivers Fast Patrol Vessel ‘ ICGS Annie Besant ‘ To The ICG

🔶 IIT Madras Launches India’s 1st Indigenously Designed Wheelchair ” Arise “

🔶 Shanta Gokhale Wins Tata Literature Live Lifetime Achievement Award 2019

🔶 15th Meeting Of The Governing Council Of South Asia Co-Operative Environment Programme Held In Bangladesh

🔶 Odisha Signs Pact With Tata Strive & Tech Mahindra For Skill Development

🔶 50th World Economic Forum (WEF) Annual Meeting To Be Held In Switzerland

🔶 Sun Pharma Pacts With AstraZeneca To Develop Oncology Products For China

🔶 Bihar To Ban Hovt Vehicles Older Than 15 Years From Checking Pollution

🔶 Andhra Pradesh State Yo Introduce English Medium In Govt School

🔶 World Travel Market (WTM) To Be Held In London , UK

🔶 Jal Shakti Ministry Organise ‘ Ganga Utsav ’ In New Delhi

🔶 India’s Sugar Output In 2019-20 To Be 21.6 Million Tonnes

🔶 Flipkart Launches ‘ MarQ TurboStream ’ Streaming Stick

🔶 US Withdrawal From The 2015 Paris Climate Agreement From Nov 4 , 2020

🔶 MSDE And IBM Jointly Launched ” SkillsBuild ” Platform

🔶 NASA’s Voyager 2 Becomes 2nd Spacecraft To Reach Interstellar Space

🔶 India Contributes USD 1 Million For Humanitarian Activities In North Korea

🔶 Guyana To Be Fastest Growing Country In The World : IMF

🔶 MSTC , Allahabad Bank Tie Up To Develop E-Auction Platform

🔶 China Approves World’s 1st Carbohydrate-Based Drug GV-971

🔶 Marathi Author Girija Kir Passed Away Recently

🔶 Ireland’s Amy Kenealy Retires From International Cricket

🔶 Wastelands In India At Around 17% In 2015-16 : Report

🔶 Serbia’s Sara Damnjanovic Crowned Miss Asia Global 2019

🔶 Vietnam’s Nguyen Thi Yen Trang Won The ‘ Miss Asia ’ Title

🔶 Neeraj Sharma Won ‘ Early Career Researcher Of The Year ’ Award

🔶 Norway Topped Women , Peace & Security Index 2019

🔶 India Ranks 133rd In Women , Peace & Security Index 2019

🔶 Ujjivan Bank Launches Instant Digital Savings & Fixed Deposit AC

🔶 Tech Mahindra Acquires US-Based Born Group For $95 Million .

जलवायु परिवर्तन और अर्थव्यवस्था (Climate Change and Economy)

चर्चा में क्यों?
अमूमन 1 सितम्बर से मानसून का लौटना शुरू हो जाता है, लेकिन इस साल मानसून की विदाई करीब 45 दिन देरी से हुई। पिछले करीब 60 सालों में ऐसा पहली बार हुआ है, जब मानसून के लौटने में इतनी देरी हुई है। मानसून खत्म होने के तय तारीख़ के 2 हफ्ते बाद तक देश के कई हिस्सों में इतनी बारिश हुई जितनी आमतौर पर जुलाई-अगस्त के महीनों में भी नहीं हुआ करती थी।

इस आशय की खबरें आ रही हैं कि तमाम इलाकों में दो ही दिन में इतनी बारिश हो गयी, जितनी आम तौर पर पहले पूरे महीने के दौरान भी नहीं हुआ करती थी।

क्या है यह जलवायु परिवर्तन?
पिछली कुछ सदियों से हमारी जलवायु में धीरे-धीरे परिवर्तन देखा जा रहा है। यानी, दुनिया के तमाम देशों में सैकड़ों सालों से जो औसत तापमान बना हुआ था, उसमें अब बदलाव हो रहा है। पृथ्वी का औसत तापमान अभी करीब 15 डिग्री सेल्सियस है, हालाँकि तापमान का बहुत ज्यादा होना या कम होना कोई पहली बार की घटना नहीं है। लेकिन अब पिछले कुछ सालों में जलवायु में अचानक तेज़ी से बदलाव हो रहा है।

मौसम की अपनी विशेषता होती है, लेकिन अब इसका ढंग बदल रहा है। गर्मियां लंबी होती जा रही हैं, और सर्दियां छोटी। इस तरह का बदलाव केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में हो रहा है। इसी परिघटना को जलवायु परिवर्तन का नाम दिया गया है।
जलवायु परिवर्तन के तहत तापमान में बढ़ोत्तरी, बारिश का बदलता पैटर्न और तूफान एवं सूखा जैसी विनाशकारी घटनाएँ शामिल हैं। इन सभी घटनाओं का समाज के न केवल आर्थिक जीवन-स्तर पर बल्कि अन्य आयामों पर दीर्घकालिक प्रभाव देखने को मिलता है।
जलवायु परिवर्तन का प्रभाव
2018 में विश्व बैंक ने ‘साउथ एशियाज हॉटस्पॉट्स: द इम्पैक्ट ऑफ़ टेम्परेचर एंड प्रेसिपिटेशन चेंजेज़ ऑन लिविंग स्टैंडर्ड्स’ नाम से एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में विश्व बैंक ने दक्षिण एशिया पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का आकलन किया है। गौरतलब है कि भारत दक्षिण एशिया का ही हिस्सा है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि आने वाले दशकों में इस पूरे क्षेत्र पर जलवायु परिवर्तन का व्यापक प्रभाव देखने को मिल सकता है। जिसमें सबसे ज्यादा बदलाव तापमान में परिवर्तन के रूप में दिख सकता है जिसके चलते बारिश के पैटर्न में बड़े बदलाव के आसार हैं।
रिपोर्ट के मुताबिक समुद्र के जल-स्तर में वृद्धि और विनाशकारी मौसमी घटनाओं के अलावा तटीय क्षेत्रों से दूर आंतरिक इलाकों के औसत मौसम में बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। यानी अब जलवायु परिवर्तन का नतीजा ज़्यादा भयावह होगा।
अधिकांश देशों में, औसत मौसम में बदलाव के कारण उनकी प्रति व्यक्ति जीडीपी वृद्धि में कमी आ जाएगी। साथ ही, इसका असर स्वास्थ्य, कृषि, पलायन और उत्पादकता जैसे कई क्षेत्रों पर पड़ेगा। इसके चलते लोगों के व्यय क्षमता में कमी आएगी।
क्या कहते हैं आंकड़े?
संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के मुताबिक 2025 तक दुनिया के दो-तिहाई लोग जल संकट की परिस्थितियों में रहने को मजबूर होंगे। ऐसे में मरुस्थलीकरण के चलते विस्थापन बढ़ेगा। नतीजतन 2045 तक करीब 13 करोड़ से ज्यादा लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा सकता है।

अंतरराष्ट्रीय संस्था ‘वाटर एड’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ साल 2030 तक दुनिया के 21 शहरों में डे-जीरो (Day Zero) यानी पानी पूरी तरह खत्म होना जैसे हालात बन जाएंगे। साल 2040 तक भारत समेत 33 देश पानी के लिए तरसने लगेंगे। जबकि वर्ष 2050 तक दुनिया के 200 शहर खुद को डे-जीरो वाले हालात में पाएंगे।
केंद्रीय जल आयोग द्वारा जारी एक आंकड़े के मुताबिक पिछले 64 साल (साल 1953 से लेकर 2017 तक) में बाढ़ के चलते करीब एक लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।
बाढ़ के चलते किसानों की ज़मीन और मानव बस्तियों के डूबने से देश की अर्थव्यवस्था और समाज दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। बाढ़ न सिर्फ फसलों को बर्बाद करती है बल्कि आधारभूत ढांचे मसलन सड़कें, रेल मार्गों, पुल और मानव बस्तियों को भी काफी नुकसान पहुँचाती है।
इसके अलावा बाढ़ग्रस्त इलाकों में कई तरह की बीमारियाँ मसलन कालरा, एंट्राइटिस यानी आंत्रशोथ, और हेपेटाईटिस समेत तमाम बीमारियां फैल जाती हैं। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ दुनिया भर में बाढ़ से होने वाली मौतों में से 20 फीसदी भारत में ही होती है।
सेंदाई फ्रेमवर्क क्या है?
_18 मार्च, 2015 को जापान के सेंदाई शहर में आयोजित आपदा जोखिम में कमी को लेकर तीसरे संयुक्त राष्ट्र विश्व सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस दौरान सेंदाई फ्रेमवर्क को अपनाया गया। इस फ्रेमवर्क में यह स्वीकार किया गया कि आपदा जोखिम को कम करने के लिए प्राथमिक भूमिका सरकार की होती है लेकिन इसमें स

करेंट अफेयर्स एक पंक्ति में: 08 नवंबर 2019

✅ करेंट अफेयर्स एक पंक्ति में: 08 नवंबर 2019

• हाल ही में सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी द्वारा जारी आँकड़ों के अनुसार, जिस देश में बेरोज़गारी दर पिछले 3 सालों के उच्चतम स्तर पर पहुँच गई है- भारत

• कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के तहत काम करने वाले प्रशिक्षण महानिदेशालय ने जिस प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनी के साथ मिलकर स्किल बिल्ड प्लेटफार्म कार्यक्रम की शुरूआत की- आईबीएम

• जिस राज्य सरकार ने हाल ही में 15 वर्ष से पुराने सरकारी वाहनों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है- बिहार

• हाल ही में लैंड एंड पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (LPAI) का चेयरमैन जिसे बनाया गया है- आदित्य मिश्रा

• जिस अंतर्राष्ट्रीय संगठन द्वारा चेन्नई-कन्याकुमारी औद्योगिक कॉरिडोर के लिए 451 मिलियन डॉलर का ऋण प्रदान किये जाने की घोषणा की गई है- एशियाई विकास बैंक

• हाल ही में लैंड एंड पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (LPAI) का चेयरमैन जिसे बनाया गया है- आदित्य मिश्रा

• विश्व सूनामी जागरुकता दिवस जिस दिन मनाया जाता है-05 नवंबर

• वह देश जिसने बैंकॉक में दुनिया के सबसे बड़े मुक्त व्यापार समझौते ‘क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी’ (आरसीईपी) में शामिल नहीं होने का फैसला किया है- भारत

• हाल ही में व्यापार नीति पर सुरजीत एस. भल्ला की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय सलाहकार समूह ने सरकार को जिस बांड को जारी करने का सुझाव दिया है- एलिफेंट बांड

• हाल ही में जिस राज्य में तवांग महोत्सव संपन्न हुआ- अरुणाचल प्रदेश
▰▱▰▱▰▱▰▱▰▱▰▱▰▱▰▱

बौद्ध_धर्म क्या है? बौद्ध धर्म का इतिहास

💟👉#बौद्ध_धर्म क्या है? बौद्ध धर्म का इतिहास📚

👉ईसाई और इस्लाम धर्म से पूर्व बौद्ध धर्म की उत्पत्ति हुई थी। उक्त दोनों धर्म के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है। इस धर्म को मानने वाले ज्यादातर चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड, कंबोडिया, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और भारत आदि देशों में रहते हैं।

👉गुप्तकाल में यह धर्म यूनान, अफगानिस्तान और अरब के कई हिस्सों में फैल गया था किंतु ईसाई और इस्लाम के प्रभाव के चलते इस धर्म को मानने वाले लोग उक्त इलाकों में अब नहीं के बराबर ही है।

👉दो शब्दों में बौद्ध धर्म को व्यक्त किया जा सकता है- अभ्यास और जागृति। बौद्ध धर्म नास्तिकों का धर्म है। कर्म ही जीवन में सुख और दुख लाता है। सभी कर्म चक्रों से मुक्त हो जाना ही मोक्ष है। कर्म से मुक्त होने या ज्ञान प्राप्ति हेतु मध्यम मार्ग अपनाते हुए व्यक्ति को चार आर्य सत्य को समझते हुए अष्टांग मार्ग का अभ्यास कहना चाहिए यही मोक्ष प्राप्ति का साधन है।

👉बौद्ध धर्म के संस्थापक भगवान बुद्ध हैं। इस धर्म के मुख्यत: दो संप्रदाय है हिनयान और महायान। वैशाख माह की पूर्णिमा का दिन बौद्धों का प्रमुख त्योहार होता है। बौद्ध धर्म के चार तीर्थ स्थल हैं- लुंबिनी, बोधगया, सारनाथ और कुशीनगर। बौद्ध धर्म के धर्मग्रंथ को त्रिपिटक कहा जाता है।

💟👉बौद्ध संगीतियांः स्थान, अध्यक्ष, शासनकाल

महात्मा बुद्ध के परिनिर्वाण के कुछ समय बाद से ही उनके उपदेशों को संगृहीत करने, उनका पाठ (वाचन) करने आदि के उद्देश्य से संगीति (सम्मेलन) की प्रथा चल पड़ी।

इन्हें धम्म संगीति (धर्म संगीति) कहा जाता है। संगीति का अर्थ है ‘साथ-साथ गाना’।

💟👉कुल मिलाकर चार बौद्ध संगीतियां हुई थी जो निम्नलिखित हैं-

1.प्रथम बौद्ध संगीति-

स्थान – राजगृह (सप्तपर्णी गुफा)

समय – 483 ई.पू.।

अध्यक्ष– महाकस्सप

शासनकाल– अजातशत्रु (हर्यक वंश) के काल में ।

उद्देश्य – बुद्ध के उपदेशों को दो पिटकों विनय पिटक तथा सुत्त पिटक में संकलित किया गया।

2.द्वितीय बौद्ध संगीति-

स्थान – वैशाली

समय – 383 ई.पू.

अध्यक्ष – साबकमीर (सर्वकामनी)

शासनकाल – कालाशोक (शिशुनाग वंश) के शासनकाल में।

उद्देश्य – अनुशासन को लेकर मतभेद के समाधान के लिए बौद्ध धर्म स्थापित एवं महासांघिक दो भागों में बँट गया।

3.तृतीय बौद्ध संगीति-

स्थान – पाटलिपुत्र

समय – 251 ई.पू.

अध्यक्ष – मोग्गलिपुत्ततिस्स

शासनकाल – अशोक (मौर्यवंश) के काल में।

उद्देश्य – संघ भेद के विरुद्ध कठोर नियमों का प्रतिपादन करके बौद्ध धर्म को स्थायित्व प्रदान करने का प्रयत्न किया गया। धर्म ग्रन्थों का अंतिम रूप से सम्पादन किया गया तथा तीसरा पिटक अभिधम्मपिटक जोङा गया।

4.चतुर्थ बौद्ध संगीति-

स्थान – कश्मीर के कुण्डलवन

समय – प्रथम शता. ई.।

अध्यक्ष – वसुमित्र

उपाध्यक्ष – अश्वघोष

शासनकाल – कनिष्क (कुषाण वंश) के काल में।

उद्देश्य – बौद्ध धर्म का दो सम्प्रदायों हीनयान एवं महायान में विभाजन।

💟👉 महत्‍वपूर्ण तथ्‍य

👉बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है. इसके प्रस्थापक महात्मा बुद्ध शाक्यमुनि (गौतम बुद्ध) थे. वे 563 ईसा पूर्व से 483 ईसा पूर्व तक रहे. ईसाई और इस्लाम धर्म से पहले बौद्ध धर्म की उत्पत्ति हुई थी. दोनों धर्म के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है. इस धर्म को मानने वाले ज्यादातर चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड, कंबोडिया, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और भारत जैसे कई देशों में रहते हैं:

(1) बौद्ध धर्म के संस्थापक थे गौतम बुद्ध. इन्हें एशिया का ज्योति पुंज कहा जाता है.

(2) गौतम बुद्ध का जन्म 563 ई. पूर्व के बीच शाक्य गणराज्य की तत्कालीन राजधानी कपिलवस्तु के निकट लुंबिनी, नेपाल में हुआ था.

(3) इनके पिता शुद्धोधन शाक्य गण के मुखिया थे.

(4) सिद्धार्थ के जन्म के सात दिन बाद ही उनकी मां मायादेवी का देहांत हो गया था.

(5) सिद्धार्थ की सौतेली मां प्रजापति गौतमी ने उनको पाला.

(6) इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था.

(7) सिद्धार्थ का 16 साल की उम्र में दंडपाणि शाक्य की कन्या यशोधरा के साथ विवाह हुआ.

(8) इनके पुत्र का नाम राहुल था.

(9) सिद्धार्थ जब कपिलावस्तु की सैर के लिए निकले तो उन्होंने चार दृश्यों को देखा:
(i) बूढ़ा व्यक्ति
(ii) एक बिमार व्यक्ति
(iii) शव
(iv) एक संयासी

(10) सांसारिक समस्याओं से दुखी होकर सिद्धार्थ ने 29 साल की आयु में घर छोड़ दिया. जिसे बौद्ध धर्म में महाभिनिष्कमण कहा जाता है.

(11) गृह त्याग के बाद बुद्ध ने वैशाली के आलारकलाम से सांख्य दर्शन की शिक्षा ग्रहण की.

(12) आलारकलाम सिद्धार्थ के प्रथम गुरू थे.

(13) आलारकलाम के बाद सिद्धार्थ ने राजगीर के रूद्रकरामपुत्त से शिक्षा ग्रहण की.

(14) उरूवेला में सिद्धार्थ को कौण्डिन्य, वप्पा, भादिया, महानामा और अस्सागी नाम के 5 साधक मिले.

रसायन विज्ञान सामान्य ज्ञान

अंगूर में पाया जाने वाला मुख्य कार्बनिक अम्ल कौन सा हैं? – टार्टरिक एसिड

  1. अग्निशमन के लिए हम किसका प्रयोग करते हैं? – कार्बन डाइआॅक्साइड
  2. अत्यधिक पसीने को रोकने के लिए प्रिकली हीट पाउडर में कौन-से यौगिक का प्रयोग किया जाता है? – बोरिक अम्ल
  3. अमोनिया का एक गुण कौन-सा है? – इसके जलीय विलयन में लाल लिटमस नीला हो जाता है
  4. अम्ल वर्षा का pH मान क्या है? – शून्य 
  5. अल्फा कण में क्या होते हैं? – 1 प्रोटॉन व 2 न्यूट्रॉन
  6. अश्रु गैस (Tear Gas) का घटक कौन-सा हैं? – क्लोरोपिक्रिन
  7. अश्रु गैस का रासायनिक नाम क्या हैं? – a क्लोरो एसीटोफिनोन
  8. आक्सीजन की खोज किसने की थी? – कार्ल शीले
  9. आतिशबाजी में हरा रंग किसके क्लोराइड लवण के कारण दिखाई देता है? – बेरियम
  10. आधुनिक आवर्त सारणी का आविष्कार किसने किया था? – मेंडलीफ
  11. आधुनिक चर्म शोधन उद्योगों में ऐसी कौन-सी भारी धातु पायी जाती हैं, जो विषैली होती है? – क्रोमियम
  12. आधुनिक रसायन शास्त्र का जनक किसे माना जाता है? – एंटोनी लवोइसिएर
  13. आमतौर पर वॉशिंग सोडा के रूप में क्या जाना जाता है? – सोडियम कार्बोनेट
  14. आयोडोफॉर्म का प्रयोग किस रूप में किया जाता है? – पूर्तिरोधी
  15. आॅरलान (Orlon) किससे बनने वाला पॉलीमर है? – ऐक्रिलोनाइट्राइल
  16. इन खनिजों में से किस एक में मुख्यत: सिलिका होता है? – क्वाट्र्ज
  17. इलेक्ट्रिक बल्ब में फिलामेंट (Filament) किसका बना होता है? – टंगस्टन
  18. इलेक्ट्रॉन का एन्टी-पार्टिकल क्या है? – पॉजिट्रान 
  19. इलेक्ट्रॉन की खोज किसने की थी? – जे. जे. थॉमसन

पुरस्कार 2019

पुरस्कार 2019

  1. ‘प्रित्जकर आर्किटेक्चर’ अवार्ड 2019 किसे दिया गया- A. आरता इसुजाकी B. दिव्या कर्नाड C. उहलेनबेक D. सेराव नारिया
    A
  2. ‘मैन बुकर इंटरनेशनल’ पुरस्कार 2019 किसे दिया गया- A. हिलेरी मेंटल B. रिचर्ड फ्लानागन C. जोखा अलार्थी D. एना बन्र्स
    C
  3. ‘ग्लोबल फ्यूचर फॉर नेचर’ अवार्ड 2019 किसे दिया गया- A. दिव्या कर्नाड B. मार्लोन कैटन C. पाॅल बेट्टी D. अरविंद अडिगा
    A
  4. ‘एबल पुरस्कार’ 2019 किसे दिया गया- A. विलियम गोल्डिंग B. डेविड स्टोरी C. पाॅल स्टॉक D. करेन उहलेनबेक
    D
  5. ‘रेमन मैग्सेसे’ पुरस्कार 2019 किस भारतीय पत्रकार को दिया गया- A. अंजना ओम कश्यप B. रवीश कुमार C. विकासपुरी D. सुभाष चंद्र
    B
  6. हाल ही में कोमोरोस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘आर्डर ऑफ द ग्रीन क्रीसेंट’ से किसे सम्मानित किया गया-
    A. रामनाथ कोविंद B. वेंकैया नायडू C. नरेंद्र मोदी D. राजनाथ सिंह
    B
  7. प्रतिष्ठित ‘कलानिधि पुरस्कार’ 2019 निम्न में से किसे दिया गया- A. एस सौम्या B. मनीष भवानी C. महिपाल शर्मा D. कविता जैन
    A
  8. ‘गांधी-मंडेला शांति’ पुरस्कार 2019 किसे दिया गया- A. प्रणव मुखर्जी B. अभिनंदन वर्धमान C. शिवानी जाधव D. डाॅ अच्युता सावंत
    D
  9. यूएई के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘जायद मेडल’ 2019 से किसे सम्मानित किया गया- A. रामनाथ कोविंद B. एम वेंकैया नायडू C. नरेंद्र मोदी D. पीयूष गोयल
    C
  10. रूस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘सेंट एंड्रयू’ अवार्ड से किसे सम्मानित किया गया – A. नरेंद्र मोदी B. राजनाथ सिंह C. निर्मला सीतारमण D. रामनाथ कोविंद
    A
  11. पहला ‘फुटबॉल रत्न’ पुरस्कार 2019 निम्न में से किसे दिया गया- A. सरदार सिंह B. सुनील छेत्री C. मनवीर सिंह D. मनीष यादव
    B
  12. निम्न में से किसे अमेरिका द्वारा दिए जाने वाले ‘कर्नट पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया- A. नरेंद्र मोदी B. राजनाथ सिंह C. पीयूष गोयल D. रामनाथ कोविंद
    C
  13. किस भारतीय वैज्ञानिक को मैटेरियल रिसर्च के लिए पहले ‘शेख सऊद अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया- A. प्रोफेसर ‘CNR’ राव
    B. रामेश्वर अय्यर
    C. सतीश कलानिधि
    D. मणिशंकर हसन
    A
  14. मिस यूनिवर्स ऑस्ट्रेलिया 2019 का खिताब किसे मिला- A. कविता यादव B. प्रिया सेराव C. मीनाक्षी यादव D. अनिता शर्मा B
  15. फेमिना मिस इंडिया 2019 विजेता कौन है? A. सुमन राव B. अंजलि भार्गव C. दीपिका रावत D. मोनिका यादव
    A
  16. फेमिना मिस ग्रैंड इंडिया 2019 का खिताब किसे दिया गया- A. पिंकी पासवान B. शिवानी जाधव C. कुमकुम छेत्री D. सुशीला उपाध्याय
    B
  17. 91वां ऑस्कर अवार्ड 2019 सर्वश्रेष्ठ फिल्म का खिताब किसे दिया गया- A. ग्रीन बुक B. द शेप ऑफ़ वाटर C. ब्लैक डायमंड D. लिटिल बॉय
    A
  18. 72 वें बाफ्टा अवॉर्ड 2019 में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार किसे दिया गया- A. राजी B. केदारनाथ C. रोमा D. ब्लैक बॉक्स
    C
  19. 66वें राष्ट्रीय फिल्म अवार्ड में बेस्ट फिल्म का अवार्ड किसे दिया गया- A. अंधाधुन B. राजी C. बधाई हो D. अधूरी कहानी
    A
  20. 64 वें फिल्मफेयर अवार्ड 2019 में बेस्ट फिल्म का अवार्ड किसे मिला- A. संजू B. मिशन मंगल C. राजी D. पैडमैन
    C
  21. 20 वें आईफा अवार्ड 2019 में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का खिताब किसे दिया गया- A. राजी B. अंधाधुंध C. बधाई हो D. पैडमैन A
  22. निम्न में से किसे भारत रत्न 2019 से सम्मानित किया गया- A. प्रणब मुखर्जी
    B. विराट कोहली
    C. अमिताभ बच्चन
    D. लालकृष्ण आडवाणी
    A

Vocabulary

  1. DAUB (VERB): (भद्दा करना): deface 
    Synonyms: smear, smudge 
    Antonyms: cleanse, purify
    Example Sentence: 
    The criminal daubed the victim’s face. 
  2. YEARNING (NOUN): (इच्छा): desire 
    Synonyms: aspiration, craving 
    Antonyms: apathy, distaste
    Example Sentence:
    I have a yearning to crack the UPSC examination. 
  3. INCUR (VERB): (झेलना): bring upon oneself
    Synonyms: obtain, acquire 
    Antonyms: forfeit, lose
    Example Sentence: 
    Because she did not pay her taxes on time, the business owner will incur a penalty this tax year. 
  4. GUSHING (ADJECTIVE): (फुहारा छोड़ना): flowing
    Synonyms: spouting, pouring out 
    Antonyms: stagnant, frozen 
    Example Sentence:
    Abuses were gushing from his mouth like hell. 
  5. PERISH (VERB): (नष्ट हो जाना): decay 
    Synonyms: rot, expire 
    Antonyms: improve, rise 
    Example Sentence: 
    This chemical will eventually perish sometime today. 
  6. BANTER (NOUN): (हंसी उड़ाना): teasing 
    Synonyms: jeering, ridicule 
    Antonyms: flattery, praise 
    Example Sentence: 
    His t-shirt had some banter line written over it. 
  7. EXTENSIVELY (ADVERB): (बड़े पैमाने पर): widely
    Synonyms: broadly, greatly 
    Antonyms: minutely, marginally 
    Example Sentence: 
    The demonetisation scheme benefitted the masses extensively. 
  8. COINCIDE (VERB): (सम्पाती होना): go along with
    Synonyms: concur, harmonize 
    Antonyms: deviate, dissent
    Example Sentence: 
    I can coincide with his idea. 
  9. PSEUDONYM (NOUN): (उपनाम): false name
    Synonyms: nick name, alias 
    Antonyms: real name, authentic name
    Example Sentence:All the characters in the play used their pseudonym. 
  10. VANITY (NOUN): (घमंड): egotism
    Synonyms: conceitedness, ostentation 
    Antonyms: humility, modesty
    Example Sentence: 
    It flattered his vanity to think I was in love with him.

Create your website at WordPress.com
Get started